उत्तराखंड

कोरोना: प्रदेश में वायरस हो रहा घातक, एक सप्ताह में 80 मरीजों की मौत

कोरोना काल के 25 सप्ताह में कोरोना ने विकराल रूप धारण कर लिया है। इस सप्ताह 5390 नए मरीज मिले जबकि 80 मरीजों की मौत हो गई। हालांकि 3458 मरीजों को इलाज के बाद डिस्चार्ज भी किया गया।

यह आंकड़ा पूर्व के सभी सप्ताहों से हर मामले में सर्वाधिक है। विदित है कि राज्य में कोरोना का पहला मामला 15 मार्च को सामने आया था। तब से लेकर मामले लगातार बढ़ रही रहे हैं।

राज्य में कोरोना संक्रमण के मामले में यदि 25 वें सप्ताह की बात करें तो इस सप्ताह संक्रमण सात प्रतिशत से अधिक रहा है। 25 वें सप्ताह में कुल मिले मरीजों में से 27 प्रतिशत अकेले देहरादून जिले में मिले हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि देहरादून जिले में कोरोना की समस्या विकराल रूप धारण कर रही है।

राज्य में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को रोकना सरकार के लिए बड़ी चुनौती बन गया है। बढ़ते मरीजों की वजह से अस्पतालों में सुविधाओं और कर्मचारियों की नियुक्ति करनी पड़ रही है। जबकि पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए लोगों की पहचान भी दिन प्रतिदिन मुश्किल होती जा रही है।
राज्य में कोरोना संक्रमण का पहला मामला 15 मार्च को सामने आया था। जून तक तो मरीजों का ग्राफ कम ही रहा लेकिन उसके बाद से मरीजों की संख्या में खासी तेजी आई है। खासकर अगस्त के महीने में तो हर दिन चार सौ से छह सौ के बीच मरीज सामने आ रहे हैं।
इससे राज्य के सरकारी अस्पतालों पर भारी दबाव बढ़ गया है। आईसीयू, वेंटीलेटर के साथ ही आक्सीजन बेड की जरूरत लगातार बढ़ रही है। इसके साथ ही कर्मचारियों की जरूरत भी पड़ रही है। इसी को देखते हुए सरकार ने अब सभी जिला अधिकारियों को आईसीयू, वेंटीलेटर और ऑक्सीजन बेड बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।