उत्तराखंड

कोरोना इफेक्ट: सितंबर तक होटल और गेस्ट हाउसों में एडवांस बुकिंग नहीं, जानें जिलों का हाल

उत्तराखंड में पर्यटन का मुख्य सीजन बिना पर्यटकों के गुजर गया। कोरोना महामारी के चलते बड़ी संख्या में होटल, जीएमवीएन-केएमवीएन के गेस्ट हाउस क्वारंटाइन सेंटर बने हैं। केंद्र के निर्देश पर राज्य सरकार ने अनलॉक वन में होटल खोल तो दिए पर गाइड लाइन की सख्ती के चलते फिलहाल पर्यटक उत्तराखंड का रुख नहीं कर रहे हैं।

यहां तक की पर्यटकों ने राज्य के पर्यटक स्थलों के होटल व गेस्ट हाउसों में अभी तक सितंबर तक के लिए एडवांस बुकिंग शुरू नहीं की है। अलबत्ता, अक्तूबर के लिए जीएमवीएन के गेस्ट हाउसों में लगभग 50 लाख रुपये की बुकिंग है। पेश है ‘हिन्दुस्तान’ की पड़ताल।

मसूरी: मसूरी के होटलों में सितंबर तक कोई बुकिंग नहीं है। कुछ को बुकिंग मिली भी थी, पर वो भी कैंसिल हो गई। होटल एसोसिएशन के महासचिव संजय अग्रवाल ने बताया कि 18 जून को बैठक कर होटलों को खोलने पर चर्चा करेंगे।
उत्तराखंड होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप साहनी ने बताया कि 10 सितंबर तक एक भी बुकिंग नहीं है। बुकिंग आ तो रही हैं, पर अभी सरकार की गाइडलाइन का भी इंतजार है।

ऋषिकेश: ऋषिकेश होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष मदन नागपाल ने बताया कि होटल खुलने के बाद भी पर्यटक नहीं आ रहे हैं। एडवांस बुकिंग का तो कोई मतलब ही नहीं है। उधर जीएमवीएन के गेस्ट हाउस क्वारंटाइन सेंटर बने हुए हैं।

पौड़ी: जिले के खिर्सू, लैंसडौंन, श्रीनगर में जीएमवीएन गेस्ट हाउस क्वारंटाइन सेंटर बने हैं। जीएमवीएन ने इनके लिए ऑनलाइन बुकिंग का भी ऑप्शन बंद कर दिया है। यहां जुलाई, अगस्त और सितंबर की एडवांस बुकिंग नहीं हुई है।

हरिद्वार: हरिद्वार में जुलाई, अगस्त और सितंबर की एडवांस बुकिंग नहीं है। लोग फोन कर जानकारी जरूर ले रहे हैं, पर बुकिंग नहीं हो रही। होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष कुलदीप शर्मा ने बताया कि संचालक स्वयं भी तब तक बुकिंग नहीं लेंगे, जब तक स्थिति साफ नहीं होती।

नैनीताल: नैनीताल व आसपास के क्षेत्रों के होटल-गेस्ट हाउसों में भी एडवांस बुकिंग बंद है। एसोसिएशन अध्यक्ष दिनेश साह ने बताया, होटलों के अधिग्रहण और पर्यटकों के लिए सख्त गाइड लाइन के चलते होटल बंद हैं।
रामनगर: जिम कार्बेट पार्क से लगे रामनगर के 250 होटल-रिजोर्ट में से अभी तक कोई नहीं खुला। रामनगर रिजॉर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष हरि सिंह मान ने बताया, जुलाई, अगस्त और सितंबर के लिए भी कोई बुकिंग नहीं है।

बागेश्वर: पर्यटन स्थल कौसानी में 24 होटल, तीन रिसॉर्ट व तीन गेस्ट हाउस हैं। होटल एसोसिएशन अध्यक्ष बबलू नेगी ने बताया कि होटलों में क्वारंटाइन सेंटर बने हुए हैं। अधिग्रहण हटने के बाद ही बुकिंग ली जाएगी।

पिथौरागढ़: मुनस्यारी में 49 होटल व लॉज हैं। होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष जगदीश रावत ने बताया कि सितंबर तक होटलों की एक भी बुकिंग नहीं आई है। पूर्व में हुई बुकिंग भी कोरोना के चलते कैंसिल हो गईं। बेरीनाग व चौकोड़ी के होटल व्यावसायी हरीश चुफाल ने बताया अभी तक कोई बुकिंग नहीं मिली है।

अल्मोड़ा: होटल एसोसिएशन अल्मोड़ा के सचिव हरीश जोशी ने बताया कि जुलाई और अगस्त के लिए बहुत कम बुकिंग हुई थीं। उनमें भी अधिकांश कैंसिल हो चुकी हैं।
जिला पर्यटन अधिकारी ने बताया कि इस बार बहुत कम संख्या में लोग बुकिंग की जानकारी ले रहे है। जुलाई और अगस्त के लिए ही सिर्फ 200 लोगों के फोन आए। केएमवीएन के गोपाल बिष्ट ने बताया कि जुलाई, अगस्त व सितंबर तक की सभी बुकिंग कैंसिल हो गई है।  राज्य में 15 जून के बाद जुलाई, अगस्त तक वैसे ही मानसून सीजन रहता है। सामान्य समय में भी इन महीनों में बुकिंग कम रहती है। सितंबर तक भी बुकिंग की स्थिति बेहतर नहीं है। उम्मीद है कि अक्तूबर से राज्य में पर्यटन सीजन कुछ सुधरने की स्थिति में होगा।