उत्तराखंड

उत्तराखंड में 46 मरीज मिलने से फूटा कोरोना बम, 1153 से बढ़कर 1199 हुए संक्रमित

प्रदेश में शुक्रवार को कोरोना के 46 नए मरीज मिले। जिससे कुल मरीजों की संख्या 1199 हो गई है। कोरोना के मरीज गढ़वाल व कुमाऊं मंडल के विभिन्न जिलों में मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुक्रवार दोपहर को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, कोरोना के सबसे ज्यादा 15 मरीज देहरादून जिले में मिले हैं और दूसरे नंबर पर 14 मरीज रुद्रप्रयाग जिले में सामने आए हैं।

टिहरी में छह और अल्मोड़ा जिले में पांच जबकि चमोली और चंपावत जिले में दो-दो और पौड़ी व हरिद्वार जिले में एक-एक कोरोना के मरीज मिले हैं।

चिंता की बात है कि राजधानी देहरादून में लगातार इतनी ज्यादा संख्या में मरीजों के मिलने से देहरादून को रेड जोन घोषित किया जा सकता है। गौरतलब है कि नैनीताल जिले को पहले ही रेड जोन में रखा गया है।

राजधानी में इतनी बड़ी संख्या में कोरोना मरीज सामने आने के बाद  प्रशासन और विभाग संदिग्धों की पहचान करने में जुट गया है। संदिग्धों की पहचान कर उन्हें क्वारंटाइन किया जाएगा ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

सूत्रों ने बताया कि दून में मिले कोरोना मरीजों में नर्स भी शामिल हैं। लेकिन राहत की बता है कि अस्पतालों में इलाज कर रहे 12 मरीजों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया। जबकि, अन्य मरीज उपचाराधीन हैं।

विभाग की ओर से कोरोना जांच के लिए भेजे गए 888 सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है और शुक्रवार को 566 सैंपलों को जांच के लिए भेजा जा चुका है। गौरतलब है कि विभाग ने अब तक 27 हजार से ज्यादा सैंपलों को जांच के लिए भेजा है जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

कोरोना मरीजों की पहचान के लिए विभाग ने सैंपल भेजे हैं जिनमें छह हजार से ज्यादा सैंपलों की  रिपोर्ट आनी बाकी है। वहीं, उत्तराखंड में 25.77 प्रतिशत रिकवरी रेट दर्ज की गई है।