उत्तराखंड

कोविड नियमों का उल्लंघन करने से बचें नहीं तो दर्ज हो जाएगा मुकदमा

उत्तराखंड में कोविड 19 मानकों की तय गाइड लाइन का पालन न करने और लापरवाही बरतने पर सीधे मुकदमे दर्ज होंगे। मुख्य सचिव ने लॉकडाउन को लेकर भी स्थिति साफ करते हुए कहा कि लॉकडाउन नहीं लगेगा। हालांकि सख्ती पूरी बरती जाएगी। कोरोना की स्थिति को लेकर शुक्रवार सुबह कैबिनेट सचिव राजीव गाबा ने राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ विडियो कांफ्रेंस के साथ हालात का जायजा लिया। उन्होंने दो टूक कहा कि कोरोना के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए राज्य अपने स्तर से सख्त से सख्त कदम उठाएं। ताकि लोगों को कोरोना के प्रभाव से बचाया जा सके।

मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने भी कहा कि अभी ऐसे हालात नहीं है कि लॉकडाउन लगाना पड़े, लेकिन लोगों को सख्ती के साथ एहतियात बरतने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कोविड से बचाव को लेकर नियम बनाए गए हैं। जो भी इन नियमों का पालन नहीं करेगा और लापरवाही बरतता हुआ पाया जाएगा, तो उसके खिलाफ सीधे सख्त कार्रवाई होगी। सीधे मुकदमा दर्ज किया जाएगा। इसमें किसी भी तरह की कोई कोताही नहीं बरती जाएगी।

उत्तराखंड में शुक्रवार को कोरोना के 364 नये केस सामने आए हैं। इन केसों के साथ एक्टिव केस का आंकड़ा 2404 पहुंच गया है। 194 मरीज ठीक भी हुए। संक्रमण दर अब 3.66 प्रतिशत और रिकवरी दर 94.44 प्रतिशत पहुंच गई है। शुक्रवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार छह केस अल्मोड़ा, दो बागेश्वर, एक चमोली, छह चंपावत, 139 देहरादून, 118 हरिद्वार, 34 नैनीताल, 12 पौड़ी, दो पिथौरागढ़, पांच रुद्रप्रयाग, पांच टिहरी, 31 यूएसनगर, तीन उत्तरकाशी में पॉजिटिव केस पाए गए। कुल 101275 कोरोना पॉजिटिव केस हो चुके हैं।