उत्तराखंड

ALERT: उत्तराखंड में कोरोना की दूसरी लहर की आशंका, जानें कैसे हो सकता है बचाव

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने उत्तराखंड में कोरोना की दूसरी लहर की आशंका जताई है। विशेषज्ञों के मुताबिक, सर्दी बढ़ने के साथ यह लहर आ सकती है। त्योहारी सीजन में कोरोना से बचने के नियमों का पालन इस खतरे को कम कर सकता है।

उत्तराखंड में सितंबर के मुकाबले अक्तूबर में 54 प्रतिशत कम लोग कोरोना से संक्रमित हुए। लेकिन अब त्योहारी सीजन के चलते बाजारों में उमड़ रही भीड़ और सर्दियों की वजह से एक बार फिर संक्रमण के बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

सूत्रों के अनुसार, विशेषज्ञों ने इस संदर्भ में स्वास्थ्य विभाग को आगाह भी किया है। विशेषज्ञ बोले, सावधानी बचा सकती है खतरे से विशेषज्ञों का मानना है कि त्योहारी सीजन में यदि लोगों ने सतर्कता बरती, मास्क, सेनेटाइजेशन व डिस्टेंसिंग का पूरी तरह पालन किया गया तो संक्रमण को काफी हद तक नियंत्रण में रखा जा सकता है।

राज्य में इससे पहले भी सबसे अधिक संक्रमण प्रवासियों के लौटने से फैला था और उसे नियंत्रित करने में सरकार को खासी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। राज्य में अभी तक संक्रमण की वजह से एक हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि 64 हजार से अधिक लोगों को अभी तक कोरोना हो चुका है।

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर कब आएगी यह पक्के तौर पर तो  नहीं कहा जा सकता। लेकिन सर्दियों का समय वायरस के लिए बहुत उपयुक्त होता है ऐसे में संक्रमण तेजी से बढ़ने का खतरा है। संक्रमण तेजी से न बढ़े, इसके लिए जरूरी है कि त्योहारी सीजन में सावधानी बरतें। मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग आदि का पूरी तरह पालन बेहद जरूरी है।