उत्तराखंड

कुंभ के शाही स्नान पर चार दिन हरिद्वार नहीं जाएंगी ट्रेन

कोविड के मद्देनजर उत्तराखंड सरकार का शाही स्नान पर ट्रेनें न चलाने का प्रस्ताव है। सरकार ने शाही स्नान 12 व 14 अप्रैल को दो दिन के लिए हरिद्वार व मेला एरिया में ट्रेन न आने देने को कहा है। यहीं नहीं सरकार ने भीड़ के चलते रेल प्रशासन से ट्रेनें बाहर चलाने का भी सुझाव दिया है। स्नान को लेकर उत्तराखंड सरकार ने श्रद्धालुओं के लिए कोविड गाइड लाइन का हर हाल में पालन करने की हिदायत भी दी है।

उत्तराखंड सरकार के मुख्य सचिव ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को सुझाव भरा पत्र भेजा है। पत्र में अप्रैल में पड़ रहे दो शाही स्नान पर ट्रेन संचालन को लेकर अपनी सलाह दी है। सरकार का आशय है कि शाही स्नान यानी 12 व 14 अप्रैल को भीड़ रहेंगी। लिहाजा रेलवे शाही स्नान से एक दिन पहले यानी 11 अप्रैल से अपनी ट्रेनों को हरिद्वार व मेला एरिया में न भेजें। इसके लिए सरकार ने कोविड-19 का हवाला दिया है। सरकार के पत्र को लेकर रेलवे उलझन में है। रेल विभाग का कहना है कि स्नान से एक दिन पहले हरिद्वार की ओर ट्रेन संचालन रोकने से दिक्कतें खड़ी हो जाएगी।

सरकार की मानी जाएं तो 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक यानी चार दिन ट्रेन संचालन थमा रहेगा मगर शाही स्नान पर रेलवे हरिद्वार व अन्य स्टेशनों से ट्रेनें कैसे बाहर के लिए चला पाएगा।? विभाग की माने तो सरकार ने कोविड नीति पर अमल करने के लिए श्रद्धालुओं के लिए पोर्टल बनें और 72 घंटे के भीतर आरटीपीसीआर की निगेटिव जांच रिपोर्ट और डाक्टर से प्रमाणित के बाद ही मेला क्षेत्र में आने की बाध्यता रखीं है। मुरादाबाद रेल मंडल अधिकारियों ने इस पत्र को लेकर अभी मंथन कर रहा है। पर इस पत्र से रेल अधिकारी की दुविध बढ़ गई है। सीनियर डीसीएम रेखा शर्मा का कहना है कि उत्तराखंड सरकार की ओर से रेलवे बोर्ड को इस बाबत पत्र भेजा गया है।