उत्तराखंड

सदी का सबसे बड़ा सूर्य ग्रहण, देहरादून में दिखा रिंग ऑफ फायर; दिन में छा गया था अंधेरा

साल का पहला सूर्यग्रहण रविवार को सुबह 10 बजकर 11 मिनट से शुरू होकर दोपहर एक बजकर 40 मिनट तक रहा। देहरादून में दोपहर 12 बजकर आठ मिनट पर रिंग आफ फायर (सूर्य सोने की अंगूठी) का नजारा दिखाई दिया। इस दौरान दिन के समय में कुछ देर के लिए अंधेरा छा गया था। देश के कुछ अन्‍य हिस्सों में भी ग्रहण दिखाई दिया। चूड़ामणि नाम के इस ग्रहण को दून में लोगों ने घरों की छतों से एक्स-रे की फ़िल्म से देखा, जबकि कई लोगों ने एकांतवास में ध्यान किया।

इससे पहले ग्रहणकाल से 12 घंटा पहले सूतक काल में लोगों ने घर पर पूजास्थल को पर्दे से ढक दिए थे। दून के विभिन्न मंदिरों के कपाट पूर्ण रूप से बंद किए गए थे, जिन्हें दोपहर एक बजकर 40 मिनट पर ग्रहणकाल खत्म होने के बाद खोला दिया गया और प्रतिमा को गंगाजल, दूध से स्नान कराने के बाद परिसर में सफाई की गई। इसके बाद ही पूजा हुई।

ज्योतिषाचार्य सुशांत राज, पंडित सुभाष जोशी, सुशांत जोशी, आचार्य पवन भट्ट, विष्णु प्रसाद भट्ट, वेद प्रकाश, विनोद कुमार की मानें तो इस ग्रहण का तुला, मिथुन, धनु, वृष, कन्या, तुला, वृश्चिक, कुम्भ और मीन राशि पर प्रभाव पड़ा।