मनोरंजनराष्ट्रीय

लंग कैंसर की जानलेवा स्टेज से जूझ रहे हैं संजय दत्त

61 साल के संजय दत्त को लंग कैंसर है, थर्ड स्टेज का। एडवांस स्टेज, जिसमें सबसे ज्यादा खतरा माना जाता है। कैंसर से संजय दत्त का पाला पहली बार नहीं पड़ा है। 39 साल पहले भी वे कैंसर के ही कारण अपनी मां नरगिस को खो चुके हैं। संजू बाबा अपनी मां नरगिस के लाडले रहे हैं। 1981 में नरगिस की मौत पैंक्रियाटिक कैंसर के कारण हुई थी। उस वक्त संजय की उम्र महज 22 साल थी।

2 अगस्त 1980 को नरगिस राज्य सभा के सेशन के दौरान बीमार हो गईं थीं। शुरुआत में उन्हें पीलिया बताया गया था। इसके बाद वे वापस मुंबई आकर ब्रीचकैंडी हॉस्पिटल में एडमिट हुईं। लेकिन 15 दिन तक उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ। और वजन भी तेजी से गिरता रहा। जांच के बाद उन्हें पैंक्रियाटिक कैंसर बताया गया। नरगिस का इलाज न्यूयॉर्क में हुआ। हालांकि भारत लौटने के बाद भी उनकी स्थिति में खास सुधार नहीं दिखा। 2 मई 1981 को वे कोमा में चली गईं। अगले ही दिन उनकी मौत हो गई।

कैंसर का पता चलने के बाद उन्हें बेटे संजय की काफी फिक्र रहती थी। इलाज करवाने के लिए जब वे अमेरिका का जा रही थीं तब उन्होंने सुनील को खत लिखकर संजय के लिए अपनी चिंता जाहिर की थी। उन्होंने लिखा था- ‘इस बात का खास ध्यान रखना कि संजय दोबारा बुरी आदतों में ना पड़े।’ 3 मई 1981 में उनकी मौत मुंबई में ही हुई। इसके बाद कैंसर पेशेंट्स के लिए नरगिस की याद में 1982 में नरगिस दत्त मेमोरियल कैंसर फाउंडेशन बनाया गया।