राष्ट्रीय

चीनी खतरे से निपटने की तैयारी, पूर्वोत्तर राज्यों से सैनिक हटाकर LAC पर 10 हजार जवान तैनात करेगी सेना

बीते कुछ सालों में पूर्वोत्तर भारत में सुरक्षा की स्थिति सुधरी है और अब भारतीय सेना अपने करीब 10 हजार जवानों को यहां से हटाकर उनके प्रमुख उद्देश्य यानी पूर्वी सीमा पर चीन की ओर से बढ़ते खतरे से निपटने का काम सौंपेगी। ये जवान रिजर्व डिविजन का हिस्सा होंगे जिन्हें आसानी से कभी भी LAC पर सुरक्षा कर रहे फ्रंट लाइन सैनिकों का सहयोग करने भी भेजा जा सकता है या फिर संवेदनशील इलाकों में किसी आकस्मिक स्थिति से भी निपटने भेजा जा सकता है।

सूत्रों के मुताबिक, अभी तक 3 हजार सैनिकों को पूर्वोत्तर के राज्यों की आंतरिक सुरक्षा और आतंकरोधी ड्यूटी से हटाया गया है, बाकी 7 हजार सैनिकों को इस साल के आखिर तक हटाया जाएगा।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस कदम से सेना को सीमाओं पर ध्यान केंद्रित करने और पारंपरिक अभियानों के लिए अपने जवानों को प्रशिक्षित करने में मदद मिलेगी।

कई संसदीय समितियां भी सुझाव दे चुकी हैं कि आतंकरोधी या चरमपंथी रोधी अभियानों में सैनिकों की संख्या घटाई जाए क्योंकि इसके परिणामस्वरूप सेना अपने सबसे बड़े काम यानी देश को बाहरी आक्रमण से बचाने पर ध्यान नहीं केंद्रित कर पाती।