राष्ट्रीय

युवाओं को तीन साल सेना में ट्रेनिंग देने का आनंद महिंद्रा ने किया सपोर्ट, ग्रुप में नौकरी में देंगे प्राथमिकता

आम लोगों के लिए सेना के टूर ऑफ ड्यूटी प्लान को लेकर जाने माने बिजनेसमैन आनंद महिंद्रा ने सेना से बात की है। उन्होंने कहा कि उन्हें सेना में तीन साल की सेवा पूरी कर चुके युवाओं के अपने यहां नौकरी देने में खुशी होगी। महिन्द्रा ने सेना को भेजे एक मेल में कहा कि मुझे हाल ही में भारतीय सेना के ‘टूर ऑफ ड्यूटी’ नाम के उस प्रस्ताव के बारे में मालूम हुआ जिसमें शारीरिक रूप से फिट युवा नागरिकों को सेना में 3 साल की सेवा देना आवश्यक होगा। मुझे लगता है ये बेहद अच्छा होगा। ऐसे में इसके बाद महिन्द्र ग्रुप उन्हें नौकरी देने पर विचार करेगा।

सेना मुख्यालय द्वारा ‘टूर ऑफ ड्यूटी’ प्रस्ताव पर चर्चा की जा रही है, जिसके तहत आम नागरिकों को राष्ट्र की सेवा करने के लिए तीन साल के कार्यकाल की अनुमति दी जाएगी। यह प्रस्ताव देश की सर्वश्रेष्ठ प्रतिभाओं को अपनी ओर आकर्षित करने के भारतीय सेना के प्रयासों का हिस्सा है। प्रारंभ में टेस्ट के लिए सेना के प्रस्ताव में बल में तीन साल के कार्यकाल के लिए 100 अधिकारियों और 1,000 पुरुषों को शामिल करने का सुझाव दिया गया है। वर्तमान में शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत, जो सबसे छोटा कार्यकाल है, वह 10 साल का है।

सूत्रों ने कहा कि युवाओं के लिए इसे और अधिक आकर्षक बनाने के लिए बल के शीर्ष अधिकारियों द्वारा लघु सेवा आयोग की भी समीक्षा की जा रही है। भारतीय सेना पिछले कई वर्षों से अधिकारियों की कमी का सामना कर रही है और जल्द से जल्द इसे दूर करना चाहती है। लघु सेवा आयोग ने पहले पांच साल की न्यूनतम सेवा अवधि के साथ शुरू किया था, लेकिन फिर इसे और अधिक आकर्षक बनाने के लिए इसे 10 साल तक बढ़ा दिया गया था।