उत्तराखंड

केदारनाथ आपदा: पीएम मोदी के बाद ‘मेडिटेशन केव’ का बढ़ा था क्रेज, जानें गुफा के बारे में सबकुछ

केदारनाथ धाम स्थित ध्यान गुफा  (मेडिटेशन केव)  में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की साधना के बाद देश-दुनिया से लोगों ने गुफा में रुकने की इच्छा जताई है। इसके बाद गढ़वाल मंडल विकास निगम (जीएमवीएन) ने फिलहाल कुछ दिनों के लिए बुकिंग रोक दी थी। करीब 12500 फीट की ऊंचाई पर स्थित ध्यान गुफा में रहने के लिए पूरी तरह स्वस्थ व्यक्ति को ही मौका दिया जाता है।

केदारनाथ धाम से करीब डेढ़ किमी ऊंचाई पर स्थित ध्यान गुफा में 2019 में मई महीने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साधना करने के बाद यहां रुकने के लिए तीर्थयात्री और पर्यटकों में क्रेज बढ़ गया है।

पीएम के केदारनाथ से जाते ही जीएमवीएन को यहां रहने और इसकी जानकारी को लेकर बड़ी संख्या में फोन आने लगे    थे। दिल्ली, मुंबई, दुबई, महाराष्ट्र आदि कई जगहों से फोन कर हर कोई इस गुफा में रहने की इच्छा जाहिर कर रहे थे।   लेकिन, गुफा में कठिन और विषम परिस्थितियों को देखते हुए यहां रहना चुनौतीपूर्ण है। जून पहले सप्ताह से बुकिंग शुरू होने की उम्मीदें हैं।

ध्यान गुफा में एक पर्यटक की तरह नहीं, बल्कि साधक की तरह ध्यान और मेडिटेशन करने वाले को ही महत्व देने पर विचार चल रहा है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यहां से जाने के बाद गढ़वाल मंडल विकास निगम के अधिकारियों ने निरीक्षण किया था। यहां जुटाई जाने वाली व्यवस्थाओं के साथ ही बुनियादी सुविधाओं पर चर्चा की।