उत्तराखंड

पिथौरागढ में बादल फटने से घर जमींदोज, तीन लोगों की मौत, 11 अब भी लापता

उत्‍तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में बारिश ने एक बार फिर तबाही बचाई है। जिले के बंगापानी तहसील के गैला टांगा में रविवार देर रात एक बजकर 44 मिनट के आसपास बादल फटने से एक मकान मलबे में जमीदोज हो गया। हादसे में तीन जोगों की मौत हो गई। टांगा गांव में 11 लोग लापता बताए जा रहे हैं, जबकि एक घायल है। सूचना पर एसडीआरएफ, आपदा प्रबंधन टीम, एसडीएम, विधायक घटनास्थल के लिए रवाना हो चुके हैं। दोनों गावों में ग्रामीण खोज और बचाव कार्य मे जुटे हैं। अत्‍यधिक बारिश होने के कारण रास्‍ता बहने से मार्ग बंद हो गया है। सेरा सिरतोला गांव के युवा बचाव के लिए पहुंच चुके हैं। सड़क पर मलबा आने के कारण टनकपुर-तवाघाट हाईवे बन्द हो गया है। दुर्गम क्षेत्र और नेटवर्क न होने के कारण स्‍‍थि‍ति की सटीक जानकारी नहीं मिला पा रही है।

गैला में हुए भूस्खलन की चपेट में आकर ध्वस्त मकान के मलबे में दबकर मरे तीन लोगों के शव ग्रामीणों ने निकाल लिए हैं। मृतकों में शेर सिंह, गीता देवी और ममता के शव निकाले गए हैं। हादसे में चार लोग डिगर सिंह, प्रियंका, ढीला, रुक्मिणी घायल हैं। ग्रामीणों द्वारा शव निकाले जाने के बाद मदकोट पुलिस चौकी प्रभारी मौके पर पहुंचे हैं। एनएसयूआइ नेता विक्रम दानू के साथ ग्रामीण युवाओ ने मलबे से शव निकाले।