राजनीति

30 मई को मनाया जाता है हिंदी पत्रकारिता दिवस ‘उदन्त मार्तण्ड’ अखबार से हुई थी शुरुआत

आज 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस है, भले ही अंग्रेजी वेबसाइट, न्यूज पेपर ने हिंदी जर्नलिज्म को पीछे धकलेने की कोशिश की है लेकिन इसके बाद भी आज हिंदी चैनल, अखबार और कई सारी ऐसे डिजिटल माध्यम हैं जिन्होंने इसके अस्तित्व को बनाये रखा है।

हिंदी पत्रकारिता की शुरुआत ‘उदन्त मार्तण्ड’ के नाम से पहला समाचार पत्र से हुई जिसे 30 मई 1826 में निकाला गया था। इस अखबार को पंडित जुगल किशोर शुक्ल ने कलकत्ता में एक साप्ताहिक समाचार पत्र के रुप में शुरू किया था। इसके साथ ही हिंदी पत्रकारिता दिवस की नींव भी पड़ी।

पं जुगल किशोर शुक्ल पेशे से वकील थे और कानपुर के रहने वाले थे। लेकिन उस समय औपनिवेशिक ब्रिटिश भारत में उन्होंने कलकत्ता को अपनी कर्मस्थली बनाया। परतंत्र भारत में हिंदुस्तानियों के हक की बात करना एक बहुत बड़ी चुनौती उन्होंने कलकत्ता के बड़ा बाजार इलाके में अमर तल्ला लेन, कोलूटोला से साप्ताहिक ‘उदन्त मार्तण्ड’ का प्रकाशन शुरू किया। उस समय यह अखबार हर हफ्ते मंगलवार को छपता था।

हिंदी भाषा का पहला अखबार-

उस समय वैसे तो कई अखबार और थे लेकिन हिंदी भाषा में छपने वाला ये पहला अखबार था। हालांकि 1818-19 में कलकत्ता स्कूल बुक के बांग्ला समाचार पत्र ‘समाचार दर्पण’ में कुछ हिस्से हिंदी में भी होते थे। इसके बाद ‘उदन्त मार्तण्ड’ आया जिसके पहले अंक की 500 प्रतियां छपी।

उस समय में हिंदी पाठकों की कमी की वजह से अखबार को ज्यादा पाठक नहीं मिले। दूसरी समस्या यह भी थी कि हिंदी भाषी राज्यों से दूर होने के कारण उन्हें समाचार पत्र डाक द्वारा भेजना पड़ता था। डाक दरें बहुत ज्यादा होने की वजह से इसे हिंदी भाषी राज्यों में भेजना भी आर्थिक रूप से महंगा पड़ रहा था।