राष्ट्रीय

बिहार बोर्ड के टॉपर्स की दिल छू लेने वाली कहानियां, कोई मजदूर तो कोई सब्जी बेचने वाले का बच्चा

बिहार बोर्ड मैट्रिक का रिजल्ट मंगलवार को जारी कर दिया गया। इस बार कुल 80.59% विद्यार्थी पास हुए हैं। रोहतास जिले के हिमांशु राज स्टेट टॉपर रहे तो टॉप 10 स्थानों पर कुल 41 विद्यार्थियों ने कब्जा जमाकर अपना, अपने परिवार और जिले का नाम रोशन किया है। अधिकतर टॉपर्स बेहद गरीब घरों के चिराग हैं, जिन्होंने अपनी शिक्षा की रोशनी से उज्ज्वल भविष्य की ओर कदम बढ़ा दिया है।

बिहार बोर्ड के स्टेट टॉपर हिमांशु राज रोहतास जिले के दिनारा प्रखंड के तेनुअज पंचायत के नटवार कला गांव वार्ड नं 10 के निवासी हैं। हिमांशु राज के पिता सुभाष सिह सब्जी बेचकर अपने परिवार का भरण पोषण करते है। माता मंजू देवी कुशल गृहिणी है। हिमांशु से बड़ी एक बहन है जो इंटर में पढ़ती है। हिमांशु की इच्छा तो ऊंची उड़ान भरने की है लेकिन परिवार की आर्थिक परेशानी को देखते हुए उन्होंने सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने की बात कही।

बिहार बोर्ड परीक्षा में दूसरे स्थान पर रहे दुर्गेश कुमार उजियारपुर थाना क्षेत्र के मालती के समीप स्थित बिदुलिया गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने समस्तीपुर के जितवारपुर स्थित श्रीकृष्णा हाई स्कूल से मैट्रिक की परीक्षा दी थी। किसान जयकिशोर सिंह के बेटे दुर्गेश ने कहा कि उनकी सफलता के पीछे उसके माता पिता का योगदान महत्वपूर्ण है। मां-पिता की प्रेरणा से ही उन्हें इतनी बड़ी सफलता मिली है। दुर्गेश चार भाई बहनों में सबसे छोटे हैं। दुर्गेश के पिता खेतीबारी कर अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। दुर्गेश ने बताया कि आईआईटी कर एक कुशल इंजीनियर बन देश की सेवा करना उनका लक्ष्य है।

बिहार के टॉप-3 टॉपरों की सूची में एक छात्रा ने कब्जा जमाया है। छात्रा जूली कुमारी को 478 अंक हासिल हुए हैं। बिहार के अरवल जिले की रहने वाली जूली ने बालिका हाई स्कूल से पढ़ाई की है। जूली के अलावा भोजपुर जिले के हरखेन कुमार जैन के शुभम कुमार को भी 478 अंक ही मिले हैं। इसके अलावा औरंगाबाद के रहने वाले राजवीर सिंह को भी 478 अंक ही मिले। राजवीर पटेल हाई स्कूल के छात्र हैं।

औरंगाबाद जिले के दाउदनगर प्रखंड के मिश्र बिगहा निवासी शिक्षक अशोक मिश्रा के बेटे अंकित कुमार ने राज्य में छठा स्थान प्राप्त किया है। अंकित को मैट्रिक परीक्षा में 475 अंक मिले हैं। अंकित पटेल हाई स्कूल दाउदनगर का छात्र है। हिंदुस्तान से बातचीत में अंकित ने बताया कि वह पढ़ाई कर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहता है। अंकित ने सेल्फ स्टडी और स्कूल की पढ़ाई के बदौलत यह सफलता हासिल की है। अंकित ने बताया कि वह किसी कोचिंग में पढ़ाई करने नहीं जाता था। पिता ही घर पर पढ़ाते थे। वह रोजाना 7 घंटा सेल्फ स्टडी करता था। अंकित की मां माया देवी गृहणी हैं। अंकित दो भाई और एक बहन है। बड़े भाई हिमांशु ने इस बार 12वीं की परीक्षा पास की है। बहन स्वीटी कुमारी छठी कक्षा की छात्रा है। अंकित ने सफलता का श्रेय अपने माता पिता भाई बहन के अलावा शिक्षकों को दिया है।

किसान उच्च विद्यालय, मोरसंड की छात्रा और समस्तीपुर प्रखंड के चकहाजी (रूप नारायणपुर बेला पंचायत) निवासी संजीव कुमार राम व विनीता कुमारी की पुत्री दीपांशु प्रिया ने मैट्रिक की परीक्षा में राज्य में छठा रैंक पाकर जिले का नाम रौशन किया है। मां-पिता समेत बड़े भाई प्रियांशु अमन व छोटे भाई आयुष अमन की दुलारी बहन दीपांशु ने प्रारंभिक शिक्षा गांव के स्कूल से पूरी की। बाद में किसान उच्च विद्यालय, मोरसंड से 10वीं की परीक्षा पूर्ण लगन व मेहनत से दी। अब तक शिक्षकों, स्वाध्याय और माता पिता के सहयोग से इस मुकाम तक पहुंचने वाली दीपांशु भविष्य में आईएएस अफसर बनना चाहती है। वर्तमान मे पिता गांव मे ही किराना की छोटी सी दुकान चलाते हैं तो मां जीविका में सीएनआरसी के पद पर कार्यरत है। मंगलवार को रिजल्ट आते ही उसे बधाई देने वालों का घर पर तांता लगा रहा।