उत्तराखंड

पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने दून में रखी थी बच्चों की ‘चेतना’ जगाने को नींव

देश का सबसे होनहार छात्र क्लास के आखिरी बेंच पर भी मिल सकता है। बस आप इनकी उपेक्षा कभी मत करिये, हर छात्र को एकसमान समझने वाले भारत के मिसाइल मैन यानी पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम अपने ऐसे ही विचारों की बदौलत छात्रों के प्रिय थे। वे चाहते भी यही कि दुनिया में उन्हें एक बेहतर शिक्षक के तौर पर याद रखा जाए।

इसलिए यूनाइटेड नेशंस ने कलाम के जन्मदिवस को विश्व छात्र दिवस के तौर पर मनाना तय किया। कलाम का देहरादून से भी लगाव रहा है। उन्होंने साल 2001में अपने देहरादून दौरे के दौरान जेएनयू के साइंस पॉलिसी एंड रिसर्च संकाय के निदेशक रहे दून निवासी प्रो. धीरेंद्र शर्मा की पत्नी निर्मला शर्मा द्वारा शुरू किए गए

कलाम द्वारा जिस बाल स्कूल की नींव साल 2001 में रखी गई थी आज भी वहां हर साल कई बच्चे शिक्षा ग्रहण करने आते हैं। कलाम के नजदीकी मित्र रहे प्रो. धीरेंद्र शर्मा ने बताया कि उनके पत्नी निर्मला शर्मा इंग्लैंड में पैदा हुई और वहीं पली-बढ़ी। इसके बाद उन्होंने अमेरिका में शिक्षा के क्षेत्र में काम करना शुरू किया। अमेरिका में धीरेंद्र शर्मा एक वैज्ञानिक के तौर पर काम कर रहे थे।