उत्तराखंड

टिड्डी प्रकोप से लड़ने को आपदा राहत दल बना, कृषि निदेशालय से जिला स्तर बनाए दल

टिड्डी के खतरे के देखते हुए सरकार ने कृषि निदेशालय से जिला स्तर तक आपदा राहत दल गठित कर दिए। शुक्रवार को कृषि सचिव आर. मीनाक्षीसुंदरम ने इसके आदेश किए। जिला स्तरीय आपदा राहत दल डीएम की सीधी निगरानी काम करेंगे।

सचिव ने बताया कि राजस्थान, मध्यप्रदेश, पंजाब, हरियाणा में कई स्थानों पर टिड्डी का प्रकोप हुआ है। इसके देखते हुए राज्य में भी सतत निगरानी की जरूरत है।

यदि इसकी निरंतर निगरानी की जाएगी तो इस पर काबू पाना काफी हद तक आसान होगा। सचिव के आदेश के बाद कृषि निदेशक गौरीशंकर ने समितियों का गठन शुरू कर दिया। उन्होंने बताया कि सभी अधिकारियों को अलर्ट रहने के निर्देश दे दिए गए है।

आपदा राहत दल:
1. निदेशालय स्तर के आपदा राहत दल के अध्यक्ष अपर निदेशक-मुख्यालय और सदस्य सचिव संयुक्त निदेशक होंगे। संयुक्त निदेशक-पशुपालन, संयुक्त निदेशक-आपदा, उपनिदेशक-रेशम और उप निदेशक-सहकारिता सदस्य होंगे।

2.जिला स्तर पर सीडीओ अध्यक्ष और सीएओ सदस्य सचिव रहेंगे। कृषि रक्षा अधिकारी, डीएचओ, जिला गन्ना अधिकारी, डीपीआरओ, आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ अधिकारी, कृषि एवं भूमि संरक्षण अधिकारी, संबंधित ब्लॉक के बीडीओ को  सदस्य बनाया गया है।