उत्तराखंड

कांवड़ यात्रा रद होने के बाद भी दिल्ली व हरियाणा से पहुंच रहे हैं कांवड़िए

कांवड़ यात्रा रद होने के कारण हरिद्वार के कारोबार पर भले ही असर पड़ेगा, लेकिन कांवड़ मेले में कांवड़ियों को रोकना हरिद्वार पुलिस के लिए चुनौती से कम नहीं होगा। बिना कांवड़ मेले के ही दिल्ली और हरियाणा से प्रतिदिन कई सौ लोग हरिद्वार पहुंच रहे हैं। ऐसे में हरिद्वार पुलिस को सीमा पर सख्ती करनी पड़ेगी।

हालांकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने दिल्ली, हरियाणा, यूपी समेत अन्य राज्यों से बातचीत की है, कि ताकि कांवड़ियों को हरिद्वार न आने दिया जाए।  छह जुलाई से शुरू हो रहे कांवड़ मेले को कोविड-19 संक्रमण के कारण रद कर दिया गया है। ऐसे में हरिद्वार आने वाले कांवड़ियों को हरिद्वार की सीमाओं से एंट्री नहीं दी जाएगी।

हर साल सावन में करीब तीन से चार करोड़ कांवड़िये हरिद्वार पहुंचते हैं। कांवड़ियों की आस्था भी हरिद्वार से जुड़ी हुई है। मान्यता है कि सावन में कांवड़िएं हरिद्वार से गंगा जल ले जाकर अपने अपने शिवालयों में चढ़ाते हैं।

मेले में दिल्ली, यूपी और हरियाणा के कांवड़िये सबसे अधिक आते है। इस बार यात्रा पर रोक लग गई है। लेकिन अभी से ही काफी संख्या में हरियाणा के यात्री हरिद्वार पहुंच रहे है।