उत्तराखंड

डिग्री और पीजी कॉलेज की परीक्षाएं अभी नहीं होंगी, 30 जून के बाद होगा फैसला

उत्तराखंड के डिग्री और पीजी कॉलेज में परीक्षाएं कब होंगी और उनका स्वरूप क्या होगा, इस पर अंतिम निर्णय 30 जून के बाद होगा। सरकार फिलहाल सभी विकल्पों को खुला रखकर चल रही हैं।

कोरोना के चलते कुछ राज्यों ने मुख्य परीक्षाएं आयोजित नहीं करा पाने के कारण, छात्रों को औसत अंकों के आधार पर पास करने का निर्णय लिया है। केंद्रीय विश्वविद्यालय श्रीनगर ने भी इसी तरह का निर्णय लिया है। इसके चलते प्रदेश सरकार राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के लिए समान नीति बनाने पर विचार कर ही है।

उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ.धन सिंह रावत ने बताया कि यूजीसी ने कई विकल्प दिए हैं, जिन पर विवि अपने स्तर से विचार कर रहे हैं। फिर भी कॉलेज खोलने और परीक्षा संचालन के लिए केंद्र की तरफ से 30 जून तक कुछ दिशानिर्देश मिलने की उम्मीद है।

इसके बाद मुख्यमंत्री के साथ विचार विमर्श कर इस बारे में अंतिम निर्णय लिया जाएगा। छात्र कर रहे औसत अंकों की पैरवी : डॉ. रावत के मुताबिक, कई छात्रों ने पत्राचार व अन्य माध्यमों के जरिए उनसे संपर्क किया।

इस दौरान उन्होंने औसत अंकों के आधार पर पास करने की मांग की। हालांकि औसत अंक के आधार पर ली गई मार्कशीट की गुणवत्ता पर बाद में सवाल उठ सकता है। ऐसे में सरकार छात्रों के दूरगामी लाभ को देखते हुए ही ठोस निर्णय लेगी।

उधर, उच्च शिक्षा निदेशक ने कॉलेज खोलने से पूर्व सभी के परिसर और कक्षाओं को पूरी तरह सेनेटाइज करने के निर्देश दिए हैं। उच्च शिक्षा निदेशक डॉ.कुमकुम रौतेला ने सभी कॉलेज प्राचार्यों को इसके निर्देश दिए हैं। कई कॉलेजों में अभी क्वारंटाइन सेंटर बने हैं, जबकि कॉलेजों में गर्मी की छुट्टियां 25 जून को खत्म हो रही हैं।