उत्तराखंड

COVID 19: मंडी पर भारी न पड़ जाए सिस्टम की बेपरवाही

निरंजनपुर सब्जी मंडी में दो दिन सैंपलिंग के बाद स्वास्थ्य विभाग के कदम ठिठक गए। यह स्थिति तब है, जबकि मंडी में वृहद स्तर पर संक्रमण का खतरा बरकरार है। यहां तीन ब्लॉक में कई संक्रमित पाए जा चुके हैं। बावजूद इसके सिस्टम बेपरवाह बना हुआ है और मंडी में बेफिक्री से कारोबार हो रहा है। हाई रिस्क एरिया होने के बावजूद न तो सैंपलिंग की जा रही है और न ही मंडी को फिलहाल बंद करने की कोई योजना है।

इन हालात में निरंजनपुर मंडी कभी भी संक्रमण का केंद्र बन सकती है। यह बात ‘दैनिक जागरण’ लगातार उठाता भी रहा है। फिर भी सिस्टम इसे गंभीरता से लेने को राजी नहीं है। मंडी के कई आढ़ती, कर्मचारी व उनके परिवार अब तक संक्रमित पाए जा चुके हैं और तीन ब्लॉक की दुकानें सील हैं।

मंडी में कोरोना का पहला केस आने के बाद भी जिम्मेदार महकमों ने गंभीरता नहीं दिखाई थी। मंडी समिति के पत्र लिखने के बाद भी कई दिन तक स्वास्थ्य विभाग ने कोई जवाब नहीं दिया। मामले बढ़ने लगे तब जाकर यहां सैंपलिंग शुरू हुई, लेकिन सिर्फ दो दिन सैंपलिंग कर स्वास्थ्य विभाग शांत बैठ गया।

इस दौरान शुक्रवार को 99 तो शनिवार को 57 सैंपल जांच के लिए भेजे गए। जिनकी रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। इसके बाद रविवार को मंडी बंद रही और सोमवार व मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम सैंपल लेने ही नहीं पहुंची। पूछने पर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का जवाब था कि उनके पास सैंपलिंग के लिए टीम ही नहीं है।