उत्तराखंड

Corona: हरिद्वार दो केस में रेड और दून 10 केस में ऑरेंज जोन में क्यों ?

हाईकोर्ट ने देहरादून को ऑरेंज जोन और हरिद्वार जिले को रेड जोन में रखने को लेकर दायर जनहित याचिका पर गुरुवार को सुनवाई की। मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति रमेश रंगनाथन और रमेश चंद्र खुल्बे की खंडपीठ ने प्रदेश और केंद्र सरकार से पूछा है कि किस आधार पर हरिद्वार को रेड और दून को ऑरेंज जोन घोषित किया है। मामले में 18 मई तक जवाब पेश करने को कहा गया है।

अगली सुनवाई उसी दिन होगी। इस मामले में हरिद्वार निवासी विधि के छात्र अक्षित शर्मा ने जनहित याचिका दायर कर कहा है कि 20 अप्रैल को हरिद्वार में कोरोना के दो मरीज मिले थे, जबकि देहरादून जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या दस थी।

मगर राज्य सरकार ने हरिद्वार जिले को रेड जोन और देहरादून को ऑरेंज जोन में रखा है, जो गलत है। याचिकाकर्ता का कहना है कि इस संबंध में केंद्र सरकार की गाइड लाइन स्पष्ट है। इसमें कहा गया है कि जहां ज्यादा मरीज होंगे, उस क्षेत्र को रेड जोन , जहां कम होंगे, उसे ऑरेंज जोन में रखा जाएगा।

जहां एक भी मामला नहीं होगा, उसे ग्रीन जोन घोषित किया जाएगा। याची ने कम मरीज के बावजूद हरिद्वार को रेड और अधिक मरीज वाले देहरादून को ऑरेंज जोन में रखे जाने पर सवाल उठाने हुए जांच की मांग की है।