उत्तराखंड

मैदान छोड़ने से खफा भाकियू भानु के प्रदेश अध्यक्ष का इस्तीफा, राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष के फैसले से जताई नाराजगी

किसान आंदोलन से खुद को अलग करने वाले भारतीय किसान यूनियन (भानु गुट) के प्रदेश अध्यक्ष ने पद और संगठन से इस्तीफा दे दिया है। उनके साथ युवा इकाई के प्रदेश अध्यक्ष, ऊधमसिंह नगर जिलाध्यक्ष और अन्य पदाधिकारियों ने भी संगठन छोड़ दिया है। इन सभी किसान नेताओं ने संगठन के फैसले को गलत करार देते हुये आंदोलन में सक्रिय सहभागिता का ऐलान किया है।

बता दें कि 26 जनवरी को लालकिले पर हुये हंगामे के बाद भाकियू (भानु गुट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानुप्रताप सिंह ने संगठन के आंदोलन से अलग होने की घोषणा की थी। इसी बीच गुरुवार देर रात भाकियू अध्यक्ष राकेश टिकैत ने गाजीपुर बॉर्डर से देशभर के किसानों से दोबारा आंदोलन में जुड़ने की अपील की। इसके बाद शुक्रवार सुबह भारतीय किसान यूनियन (भानु) के प्रदेश अध्यक्ष सुखवंत सिंह भुल्लर, प्रदेश उपाध्यक्ष जसवीर सिंह, ऊधमसिंह नगर जिलाध्यक्ष मानवेन्द्र सिंह मौमी, युवा प्रदेश अध्यक्ष अतेन्द्रपाल सिंह, युवा जिलाध्यक्ष गुरप्रीत सिंह, प्रदेश कार्यकारिणी नेता सुरेन्द्र सिंह, कमलदीप सिंह उप्पल, गुरसेवक सिंह औलख समेत जिला, ब्लॉक पदाधिकारियों ने अपने समर्थकों समेत संगठन से इस्तीफा दे दिया। इन किसान नेताओं ने घोषणा की है कि वे संयुक्त किसान मोर्चा के नेतृत्व में आंदोलन में पूर्ववत भागीदारी करेंगे। बताया कि शीघ्र ही सभी किसान नेता समर्थकों के साथ गाजीपुर बॉर्डर रवाना होंगे।

गुरुवार देर शाम गाजीपुर बॉर्डर पर जो हुआ, उससे हम आहत हैं। लालकिले के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिये। लेकिन अराजकता फैलाने वालों की आड़ में किसान आंदोलन को खत्म करने का षड्यंत्र बर्दाश्त नहीं होगा। हमने अपने संगठन से इस्तीफा दे दिया है और फिलहाल किसी अन्य संगठन से नहीं जुड़ रहे हैं। लेकिन किसान आंदोलन में और मजबूती से शिरकत करेंगे।