उत्तराखंड

बेंगलुरु के परिवार को 4 माह बाद नैनीताल में मिली खोई बिल्ली,जानें कैसे गुम हुई थी ‘लियो’

चार माह पहले उत्तराखंड घूमने आए बेंगलुरु के कपूर दंपति को सूर्यागांव में खोई बिल्ली वापस मिल गई। पालतू बिल्ली लियो की तलाश में महीनों तक हैरान परेशान दंपति ने उसे खोजने के लिए इनाम तक रख दिया। चार दिन पहले एक ग्रामीण ने बिल्ली को जंगल में देखकर कपूर दंपति को खबर दी। यह खबर मिलते परिवार की मानो जान में जान आ गई। आनन-फानन में फ्लाइट से वे रविवार सूर्या गांव आ गए, जहां ग्रामीणों की मदद से गांव को सटे जंगल में लियो को खोज लिया गया।

बेंगलुरू निवासी सॉफ्टवेयर इंजीनियर हर्ष कपूर अपनी पत्नी भव्या पांडे कपूर 1-2 अक्तूबर को सूर्यागांव स्थित बलौट रिजॉर्ट में ठहरे थे। तीन अक्तूबर को लियो वहां घूम रहे कुत्ते को देखकर डर गई जंगल में भाग गई। इसके बाद कपूर दंपति ने उन्हें काफी तलाशा, यहां तक कि अपनी वापसी की फ्लाइट छोड़ दी। करीब 4 दिन गांव के साथ हर्ष और भव्या अपनी बिल्ली की तलाश में गांव और जंगलों की खाक छानते रहे। फिर भी लियो का कुछ पता नहीं चला।

निराश दंपति ग्रामीणों को अपना फोन नंबर और पता देकर बेंगलुरु लौट गए। करीब 5 दिन पहले सूर्यागांव में रहने वाले ग्रामीण गोविंद ने हर्ष को फोन कर लियो के गांव से सटे जंगल में दिखने की खबर दी। यह सुनकर पूरा परिवार खुशी से झूम उठा। आनन-फानन कपूर दंपति बेंगलुरू से फ्लाइट लेकर रविवार रात सूर्यागांव नैनीताल स्थित बलौट रिजार्ट पहुंचे। यहां अगले दिन खबर देने वाले गोविंद और अन्य ग्रामीणों के साथ आसपास और आबादी से सटे जंगल में लियो की तलाश शुरू कर दी गई।