उत्तराखंड

कुंभ से पहले मकर संक्रांति स्नान पर होगी प्रशासन की अग्नि परीक्षा, सफल ट्रायल पर होगा फोकस

भले ही कुंभ मेला मार्च से शुरू होने जा रहा हो, लेकिन मेला पुलिस जनवरी से ही सुरक्षा व्यवस्था का ट्रायल शुरू करेगी। जनवरी के दूसरे सप्ताह में मकर संक्रांति स्नान पर मेला पुलिस सीपीएमएफ (सेंट्रल पैरा मिलेट्री फोर्स), कमांडो और बीडीएस के प्रथम चरण के दस्ते को तैनात कर मेले का निरीक्षण करेगी। मेला क्षेत्र में यह विशेष दस्ता जनवरी से तैनात किया जाएगा।

आने वाले मकर संक्रांति स्नान को कुंभ पुलिस ट्रायल के रूप में लेने जा रही है। इस स्नान में आने वाली भीड़, होने वाली व्यवस्थाओं के साथ आवश्यक व्यवस्थाओं का बारीकी से निरीक्षण किया जाएगा, ताकि कुम्भ की व्यवस्थाओं में किसी तरह की कोई कमी न रह जाए। मकर संक्रांति स्नान के लिए मेला पुलिस, सुरक्षा व्यवस्था के लिए प्रथम चरण का फोर्स तैनात करने की तैयारी में है।

मेले के लिए स्वीकृत 40 कंपनी सीपीएमएफ में से 5 कंपनी बुला ली गई है। इसके अलावा 40 कमांडो के दो दस्ते और उत्तराखंड बम निरोधक दस्ते की 5 टीमें जनवरी के पहले सप्ताह में हरिद्वार पहुंचकर काम संभाल लेगी। यह तमाम टीमें जनवरी से मेला क्षेत्र का गहनता से निरीक्षण कर पड़ताल शुरू करेगी ताकि कुंभ क्षेत्र को बारीकी से समझ कर मेले में उसका लाभ लिया जा सके। मकर संक्रांति स्नान के बाद मेले के लिए जरूरी बाकी स्टाफ को हरिद्वार मेले के लिए बुला लिया जाएगा।