राष्ट्रीय

चीन के पीछे हटने से एक दिन पहले डोभाल ने की थी चीन के विदेश मंत्री से बात

भारत और चीन के बीच इस बात पर सहमति बनी है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव जल्द करने के साथ ही विवादित सीमा क्षेत्र में ऐसी कोई एकतरफा कार्रवाई नहीं होगी, जिससे वास्तुस्थित बदल सके। भारतीय विदेश मंत्रालय ने सोमवार को यह जानकारी दी। विदेश मंत्रालय ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकर अजीत डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच रविवार को फोन पर बातचीत हुई। उन दोनों ने बातचीत के दौरान भारत-चीन सीमाई इलाकों के वेस्टर्न सेक्टर में हाल के दिनों में हुए विवाद पर गहरी और खुलकर चर्चा की।

विदेश मंत्रालय ने कहा दोनों पक्ष इस बात राजी हुए कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव मुक्त करने की प्रक्रिया को जल्द पूरा किया जाए। साथ ही, दोनों पक्षों को भारत चीन सीमाओं पर चरणबद्ध तरीके से तनाव को खत्म करना चाहिए। मंत्रालय की तरफ से आगे कहा गया कि भारत चीन सीमा पर द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल के तहत शांति और अमन की बहाली के लिए एनएसए अजीत डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच बातचीत जारी रहेगी।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि उन्होंने इस बात को दोहराई कि दोनों पक्षों को वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान करना चाहिए और वस्तुस्थिति को बदलने के लिए कोई भी एकतरफा कार्रवाई नहीं होनी चाहिए। इसके साथ ही, भविष्य में किसी भी ऐसी घटना जिनसे सीमाई इलाकों में शांति और अमन को खतरा हो उसे नजरअंदाज किया जान चाहिए।